श्रीनगर के कब्रगाह में

एक के बाद एक हर कब्र से जमी बर्फ की चादर हटा कर जब वह बुजुर्ग ईद के दिन श्रीनगर के कब्रगाह में अपने बेटे की कब्र तलाश रहा था मेरे अंदर से अनायास ये शब्द निकल पड़े:

तुम्हारे कब्र पर जमी बर्फ ने
आग लगा दी वादी में
कितनी गर्मी होगी जाने
अबकी बार की जाड़े में